Diesel Cars: डीजल कार पर 10% Gst लगाने को तैयार नितिन गडकरी

नितिन गडकरी

नितिन गडकरी भारत के केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री, ने वाहनों में डीजल इंजन का उपयोग कम करने के लिए कई पहल की हैं। वह एक समय पर इस दिशा में कदम बढ़ा रहे हैं ताकि यह एक प्रदूषण मुक्त और उन्नत जलवायु प्रदूषण नियंत्रण की दिशा में बदल सके।

नितिन गडकरी ने डीजल कार को लेकर क्या कहा

63वें सोसाइटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स के वार्षिक सम्मेलन के दौरान, नितिन गडकरी ने डीजल इंजन और वाहनों पर अतिरिक्त 10 प्रतिशत GST लगाने की प्रस्तावना पर बात की है। वे इस प्रस्ताव के माध्यम से डीजल वाहनों के उपयोग को बढ़ावा देने के उद्देश्य से इस प्रकार के कदम की ओर प्रोत्साहित कर रहे हैं।

also read this :GOLD AND SILVER PRICE IN INDIA:सोने चांदी का जाने रेट अपने शहर मे

SUZLON ENERGY SHARE PRICE:सुजलॉन एनर्जी शेयर प्राइस

Facebook Account :Sukh-e Rajput

उन्होंने मंत्री से इस प्रस्ताव को मंजूरी देने की बात की है, जिससे यह सुनिश्चित हो सकता है कि डीजल वाहनों के उपयोग पर अधिक टैक्स लगने के परिणामस्वरूप उनकी कीमत में वृद्धि हो सकती है।

ऑटोमोबाइल कंपनियों को भी चेतावनी

गडकरी ने ऑटोमोबाइल कंपनियों को भी चेतावनी दी है कि सरकार टैक्सों को इस प्रकार बढ़ा सकती है कि डीजल गाड़ियां बेचना मुश्किल हो जाए, जो इस दिशा में कदम बढ़ाने के लिए एक प्रेरणा स्रोत के रूप में कार्य कर सकता है।

इसके साथ ही, यह प्रस्ताव डीजल वाहनों के प्रदूषण को कम करने और भारत में शांतिपूर्ण ऊर्जा स्रोतों का उपयोग बढ़ाने की दिशा में भी एक प्रकार की प्रयास है।

केंद्रीय मंत्री ने वाहन निर्माताओं से अगांव किया है कि वे पेट्रोल और डीजल के साथ ही वैकल्पिक ईंधन के साथ इलेक्ट्रिक और अन्य तकनीक वाले वाहनों को देश में अधिक से अधिक प्रस्तुत करें। इसका मुख्य उद्देश्य प्रदूषण को कम करने का है, जो वायुमंडलीय प्रदूषण, जलवायु परिवर्तन और स्वास्थ्य समस्याओं की एक मुख्य वजह है।

इसके अलावा, यह भी एक प्रकार की सुरक्षित, सुस्त, और ऊर्जा-संरक्षणीय यातायात को प्रोत्साहित करने का प्रयास है, जो भारतीय समाज के लिए महत्वपूर्ण है। इलेक्ट्रिक वाहन और अन्य ऊर्जा-संरक्षणीय तकनीक के उपयोग से ऊर्जा खपत कम होती है और स्थायी ऊर्जा स्रोतों का उपयोग किया जा सकता है, जिससे देश का ऊर्जा सुरक्षा भी बढ़ सकती है।

इस अनुरोध के माध्यम से, सरकार वाहन निर्माताओं को आग्रह कर रही है कि वे ऊर्जा संरक्षण और प्रदूषण नियंत्रण के प्रति अपनी जिम्मेदारियों को सही तरीके से निभाएं और समाज के लिए स्वास्थ्यपूर्ण और प्रदूषण मुक्त यातायात के लिए नवाचारी तकनीकों का सही तरीके से उपयोग करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *