पंजाब और दिल्ली में भूकंप के झटके भूकंप की तीव्रता 6.3

भूकंप

11 जनवरी, 2024 को शाम 2 बजकर 51 मिनट पर पंजाब और दिल्ली के कुछ हिस्सों में भूकंप के झटके महसूस किए गए। भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 6.3 मापी गई।

भूकंप की तीव्रता 6.3

भूकंप का केंद्र पाकिस्तान अफगानिस्तान के बीच बताया जा रहा है । भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 6.3 मापी गई।भूकंप के झटके पंजाब के लुधियाना, पटियाला, जालंधर, और दिल्ली के कुछ हिस्सों में महसूस किए गए।

भूकंप के झटकों से किसी भी तरह के नुकसान या जनहानि की कोई खबर नहीं है। हालांकि, कई लोगों को डर और घबराहट हुई।

आज भूकंप कहाँ कहाँ आया है?

भूकंप आने पर क्या करे?

patna station new viral video:पटना स्टेशन पर अश्लील हरकते करता दिखा जोड़ा

malaika arora क्या करने जा रही है शादी?

sofia ansari hot pics:सोफिया अंसारी की ये पोस्ट हुई वायरल

भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण (GSI) के अनुसार, भूकंप की गहराई 10 किलोमीटर थी।

भूकंप के बाद, GSI ने लोगों से सतर्क रहने और भूकंप के बारे में जानकारी के लिए अपने मोबाइल फोन पर ‘SMS ALERT’ सेवा का उपयोग करने का अनुरोध किया है।

भूकंप का कारण

भूकंप पृथ्वी की प्लेटों के गतिशील होने के कारण होता है। जब ये प्लेटें एक-दूसरे के संपर्क में आती हैं, तो वे एक-दूसरे के खिलाफ रगड़ती हैं। इस रगड़ से ऊर्जा उत्पन्न होती है, जो भूकंप का कारण बनती है।

भारत एक भूकंपीय रूप से सक्रिय क्षेत्र है। यहां भूकंप के झटके आम हैं।

भूकंप कैसे आता है?


भूकंप पृथ्वी की सतह के नीचे टेक्टोनिक प्लेटों के टकराव या टूटने के कारण होता है। पृथ्वी की सतह सात टेक्टोनिक प्लेटों से बनी है जो लगातार गतिमान रहती हैं। जब ये प्लेटें एक दूसरे से टकराती हैं या टूटती हैं, तो पृथ्वी की सतह में कंपन होता है, जिसे भूकंप कहा जाता है।

भूकंप की उत्पत्ति के दो मुख्य तरीके हैं:

  • टकराव: जब दो टेक्टोनिक प्लेटें एक दूसरे से टकराती हैं, तो वे एक दूसरे के नीचे धंसने लगती हैं। इस प्रक्रिया को सबडक्शन कहा जाता है। सबडक्शन के दौरान, प्लेटें एक दूसरे के खिलाफ रगड़ती हैं, जिससे ऊर्जा उत्पन्न होती है। यह ऊर्जा भूकंप के रूप में विमोचित होती है।
  • टूटना: जब दो टेक्टोनिक प्लेटें एक दूसरे से अलग होती हैं, तो वे एक दूसरे से दूर जाने लगती हैं। इस प्रक्रिया को डिवर्जेंस कहा जाता है। डिवर्जेंस के दौरान, प्लेटों के बीच की जगह में दरारें पड़ जाती हैं। इन दरारों के टूटने से भूकंप होता है।

भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर मापी जाती है। रिक्टर पैमाने पर 0 से 9 तक की तीव्रता होती है। 0 तीव्रता का भूकंप महसूस नहीं होता है, जबकि 9 तीव्रता का भूकंप बहुत विनाशकारी होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *