Site icon Hindi Khabre

भारत का जस्टिन ट्रूडो को मुँह तोड़ जवाब : 5 दिन के अंदर कनाडा के राजदूत को जाने को कहा

जस्टिन ट्रूडो

भारत का जस्टिन ट्रूडो को मुँह तोड़ जवाब

भारत-कनाडा संबंध गहरे संकट में हैं, कनाडा के प्रधान मंत्री जस्टिन ट्रूडो ने सोमवार को एक प्रमुख भारतीय राजनयिक को निष्कासित कर दिया क्योंकि वह भारत सरकार और भारत के बीच कनाडाई खालिस्तानी आतंकवादी हरदीप सिंह निज्जर हत्या मे हाथ होने का संबंध जताया था

जस्टिन ट्रूडो ने क्या कहा

भारत सरकार ने प्रधान मंत्री जस्टिन ट्रूडो के आरोपों को सिरे से नकार दिया हैं।कनाडा के प्रधान मंत्री जस्टिन ट्रूडो ने संसद को बताया कि उनकी खुफिया एजेंसी 18 जून को ब्रिटिश कोलंबिया के सरे में एक सिख सांस्कृतिक केंद्र के बाहर निज्जर की गोली मारकर हत्या के बाद उनकी जांच कर रही थी।और उनकी जांच मे भारत सरकार की एजेंसी का हाथ होने का शक बताया है

Also read this:ALIENS FOUND IN MEXICO:मेक्सिको में ‘एलियन’ मिले; वैज्ञानिकों के बीच चौंकाने वाली अज्ञात शवों ने मचाया हलचल

Facebook Account :Sukh-e Rajput

इसी कारण कनाडा ने भारत के राजनयिक को निष्कासित कर दिया पर जब भारत सरकार को इस बारे पता चला तो भारत ने भी बिना देरी किये कनाडा को मुँह तोड़ जवाब दिया

भारतीय विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी कर कहा कि एक वरिष्ठ कनाडाई राजनयिक को निष्कासित करने के फैसले के बारे में भारत सरकार को सूचित करने के लिए कनाडाई उच्चायुक्त को आज भारत बुलाया गया था।

भारतीय विदेश मंत्रालय ने आगे कहा कि इसमें शामिल राजनयिकों को अगले 5 दिनों के भीतर भारत छोड़ने के लिए कहा गया है। विदेश मंत्रालय ने कहा कि यह निर्णय कनाडाई राजनयिकों के हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करने और भारत विरोधी गतिविधियों में शामिल होने के बारे में भारत सरकार की बढ़ती चिंताओं को दर्शाता है। भारत ने मंगलवार को कनाडा के उन आरोपों का खंडन किया कि उसने कनाडा में खालिस्तान समर्थक नेता की हत्या कर दी थी और इसे बेतुका बताया

प्रधान मंत्री जस्टिन ट्रूडो भारत मे हुऐ G20 सम्मलेन मे पीएम मोदी के भाषण से भी खुश नही थे जब पीएम मोदी ने जस्टिन ट्रूडो को सीधे कनाडा मे हो रही भारत के खिलाफ खालिस्तानी गतिविधियों को बंद करने को कहा था

भारत के इस रुख को देख कर कनाडा के प्रधानमंत्री का बयान आया की वो भारत को नाराज नही करना चाहते है और उनके तेवर भी धीले पड़ते नजर आये अब आगे देखना होगा भारत का क्या रुख रहता है कनाडा के लिये

Exit mobile version