Site icon Hindi Khabre

करवा चौथ कब है 2023:करवा चौथ की कहानी,पूजा की रीति हिंदी मे

करवा चौथ

करवा चौथ कब है 2023

करवा चौथ कब है 2023:करवा चौथ हिंदू धर्म में एक महत्वपूर्ण त्यौहार है। यह त्यौहार हर साल कार्तिक महीने के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को मनाया जाता है। इस दिन पर विवाहित महिलाएं अपने पति के लंबे आयुष्य और स्वास्थ्य के लिए व्रत रखती हैं। अविवाहित लड़कियां भी यह व्रत रखती हैं जिससे उन्हें उनके मनचाहा जीवनसाथी मिले।

2023 में करवा चौथ की तारीख और मुहूर्त

2023 में करवा चौथ 1 नवंबर, बुधवार के दिन मनाया जाएगा।

करवा चौथ की पूजा की रीति

करवा चौथ की पूजा के लिए, महिलाएं सुबह स्नान करके साफ कपड़े पहनती हैं। फिर वे घर की सफाई करती हैं और सजाती हैं। पूजा के लिए, वे घी के दीये, फूल, मिठाईयां, और अन्य पूजा सामग्रीयां तैयार करती हैं।

also read this:Janmashtami 2023 Date: जन्माष्टमी कब है |आज है या कल |Radha Krishan Images 2023

Facebook Account :Sukh-e Rajput

शाम को, महिलाएं अपने पति के स्वास्थ्य और लंबे आयुष्य के लिए व्रत लेती हैं। फिर वे घर के बाहर चंद्रमा को देखने के लिए जाती हैं। चंद्रमा को देखने के बाद, वे अपने पति का चेहरा देखती हैं और उन्हें खाना देती हैं।

करवा चौथ की उजवणी

करवा चौथ एक बहुत ही उत्साहभरे माहौल में मनाया जाने वाला त्यौहार है। इस दिन, महिलाएं अपने पति को खास भोजन बनाकर उन्हें अपनी आजीवन साथी की कामना करती हैं।

करवा चौथ की शुभेच्छाएं

करवा चौथ की आपको और आपके परिवार को बहुत बहुत शुभकामनाएं। उम्मीद है कि इस साल आपके पति को लंबी उम्र और स्वास्थ्य मिले।

करवा चौथ की कहानी

करवा चौथ की कहानी के अनुसार, करवा नाम की एक पतिव्रता महिला थी। उसके पति का नाम व्रती था। एक दिन, व्रती नदी में स्नान करने गया तो नहाते समय एक मगरमच्छ ने उसका पैर पकड़ लिया। उसने अपनी पत्नी करवा को सहायता के लिए बुलाया। करवा के सतीत्व में काफी बल था। नदी के तट पर अपने पति के पास पहुंचकर अपने तपोबल से उस मगरमच्छ को बांध दिया।

व्रती को बचाने के लिए करवा ने कठोर तपस्या की। उसने एक साल तक निर्जला उपवास रखा। आखिरकार, चौथ माता ने उसकी तपस्या से प्रसन्न होकर वरदान दिया कि उसका पति जीवित हो जाएगा। करवा की खुशी का ठिकाना नहीं रहा। उसने चौथ माता की पूजा की और अपने पति को वापस पाया।

follow me

Exit mobile version